” नफरत को मिटाइए “

कविता में एक नया प्रयास कर रही हूं , आशा करती हूं आपको पसंद आएगा ।

जय श्री हमको चाहिए ,
भाग्यश्री हमको चाहिए ,
प्यार की जूही खिला ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

पूजा हो यहां सभी की ,
रेखा ना हो दुश्मनी की ,
हीरा नहीं तो ,
नीलम ही बन जाइए ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

एकता हो हर जगह पर ,
विजेता बने सब इस धरा पर ,
पराजित को न सताइए ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

माधुरी ही माधुरी हो ,
प्रेम की मंदाकिनी हो ,
बीना मन की बजाइए ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

दीपिका मन में जलाइए ,
श्रद्धा को भी बुलाइए ,
नैनो में काजल बन घुल जाइए ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

भूमि की हर कृति को प्रेम से अपनाइए ,
शिल्पा बन हर किसी के जीवन को महकाइए ,
नफरत को मिटाइए नफरत को मिटाइए ।।

दूसरों को सही दिशा दिखलाइए ,
राधिका सा प्रेम , अनुष्का सा साहस ,
सबके मन में जगाइए ,
नफरत को मिटाइए , नफरत को मिटाइए ।।

जी हां आपने सही पहचाना , इस कविता में अभिनेत्रियों के नामों का प्रयोग किया गया है , कुछ नाम पुराने हैं क्योंकि यह कविता मैंने 93 में लिखी थी , कुछ पंक्तियां आज जुड़ी हैं ।

Published by Beingcreative

A homemaker exploring herself!!

10 thoughts on “” नफरत को मिटाइए “

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: