” इंतज़ार “

शुष्क रेगिस्तान को पानी की एक बूंद का इंतज़ार ,
खुश्क हुए रिश्तों को प्यार की जलधारा का इंतज़ार ,
अनुर्वर धरती को बरखा की फुहार का इंतज़ार ,
अवसाद से भरे ह्रदय को प्रसन्नता का इंतज़ार ,
एक मां की सूनी कुक्षी को नवजीवन का इंतज़ार ,
बिछड़े मित्र को मित्रता के एहसास का इंतज़ार ,
अबोध कली को उत्फुल्ल होने का इंतज़ार ,
वृद्ध मां बाप को बच्चों के आलिंगन का इंतज़ार ,
दुख‌ की लहरों में गोते खाती नाव को नाविक का इंतज़ार
छोटी-छोटी कोंपलों को ओस की एक बूंद का इंतज़ार ,
दाना ले जाती चींटी को अपने गंतव्य का इंतज़ार ,
एक अनाथ बच्चे को वात्सल्य भरे स्पर्श का इंतज़ार ,
विदीर्ण कुटुंब को अपनों के साथ का इंतज़ार ,
निष्क्रिय हुई भावनाओं को प्रेरणा के संचार का इंतज़ार ,
काली रात के अंधियारे को स्वर्णिम प्रकाश का इंतज़ार ,
निशब्द मानवता को मुखर होने के आभास का इंतज़ार ,
चहूं ओर दृष्टि डालकर तो देखो एक बार ,
समस्त सृष्टि को किसी ना किसी का इंतज़ार ,
इंतज़ार , इंतज़ार , इंतज़ार ,

कभी ना खत्म होने वाला इंतज़ार ।।

Published by Beingcreative

A homemaker exploring herself!!

9 thoughts on “” इंतज़ार “

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: