” इंसान का जिस्म “

इंसान का जिस्म क्या है ?
जिस पर इतराता है जहां ,
बस एक मिट्टी की इमारत ,
एक मिट्टी का मकां ,
खून तो गारा है इसमें
और ईंटे है हड्डियां ,
चंद सांसों पर खड़ा है ,
यह ख्याली आसमां ,
मौत की पुरजो़र आंधी
इससे जब टकराएगी ,
जितनी भी महंगी हो ये इमारत
टूटकर बिखर जाएगी ।

Published by Beingcreative

A homemaker exploring herself!!

18 thoughts on “” इंसान का जिस्म “

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: