“पिता”

“पिता गीता के वो श्लोक हैं, जिन्हें पढ़ते तो सब है, समझते कम है……” आज मैं आपसे उन्हीं पिता के बारे में बात करूंगी जिनके बारे में बहुत कम कहा जाता है। मां के बारे में तो सभी बात करते हैं। मां पूजनीय है, मां से बढ़कर कोई नहीं , परंतु पिता के अस्तित्व कोContinue reading ““पिता””