“बिरयानी सी शादी”

आज मेरे लेख का विषय कुछ अटपटा लगेगा आपको और मैं कोशिश करूंगी कि आपको अपना मंतव्य समझा सकूं । बिरयानी का नाम लेते ही मुंह में तरह-तरह के स्वाद घुलने लगते हैं , तीखा , करारा और चटपटा सा । शादी भी तो बिरयानी की तरह ही मसालेदार और चटपटी है, जिसमें तीखा स्वादContinue reading ““बिरयानी सी शादी””

” फिर से बलात्कार “

सोच के दायरे कम होते जा रहे हैं , ऐसी घटनाएं आसपास घट जाती है कि इंसान की सोचने समझने की शक्ति खत्म हो जाती है । हाथरस में घटी उस भयावह घटना ने मेरे हृदय को झकझोर दिया । कितने ही सालों से हम यह राग अलापते आ रहे हैं की बेटियों की सुरक्षाContinue reading “” फिर से बलात्कार “”

” इस्तेमाल “

एक लेखक के मन में सदा ही उथल-पुथल मची रहती है , भावों और विचारों का आवागमन चलता ही रहता है । आज खुद को हम से संबोधित करने की इच्छा जागृत हुई तो ऐसा ही कर रहे हैं । यूं तो हम अक्सर अपने जीवन के अनुभव और प्रसंगों से प्रेरित होकर लेख याContinue reading “” इस्तेमाल “”

” कबाड़ी वाला “

कबाड़ी वाला , कबाड़िया या भंगार वाला आखिर होता कौन है ? कबाड़ी वाला वह व्यक्ति होता है जो घर का फालतू सामान जैसे कि रद्दी , खाली डब्बे , खाली बोतलें , बेकार गत्ते आदि खरीद कर उसके बदले पैसे देकर जाता है और हमारे घर को कबाड़ मुक्त करता है । सुबह –Continue reading “” कबाड़ी वाला “”

“समाज”

समाज क्या है ? मैं कहूंगी – जो समझ ना आए वह है समाज । आप सोचेंगे मैं ऐसा क्यों कह रही हूं ? क्या मैं सही नहीं हूं ? क्या आपको समाज समझ आता है ? क्या समाज की बातें समझ आती हैं ? ” हमारे जीवन का एक ही रोग , क्या कहेगाContinue reading ““समाज””

” मैं दुखी क्यों ? “

दुख क्या है ? जो वस्तु विशेष हमें अप्रिय लगे वह हमारे लिए दुख बन जाता है । आज प्रत्येक मनुष्य कहता है , मैं दुखी क्यों , भगवान ने मुझे दुख क्यों दिया है ? मैं ही मिला था भगवान को दुख देने के लिए ! जब मन विषाद से भर जाता है तोContinue reading “” मैं दुखी क्यों ? “”

” नारी “

कोमल है कमजोर नहीं पर शक्ति का नाम ही नारी है!!!! नारी कौन है ? नारी क्या है ? नारी कैसी है ? यह सवाल सोचने योग्य हैं, पर क्या हम सोच पाते हैं?हम सिर्फ नारी को भोग की वस्तु ,उपयोग की वस्तु ही समझते हैं, हम सिर्फ नारी को बेटी ,बहन,बीवी और मां हीContinue reading “” नारी “”

“आज की शिक्षा “

आजकल बच्चों की शिक्षा ही सर्वोपरि विषय बन गया है , स्कूल , कॉलेज की फीस और ऑनलाइन क्लासेस बस यही चर्चा है । स्थिति का कोई भी निष्कर्ष निकालकर निर्देश दिए जा रहे है । बहुत से लोग अलग-अलग माध्यम से अपनी राय दे रहे हैं, वैसे भी सलाह देना तो भारतीयों का जन्मContinue reading ““आज की शिक्षा “”